एक रिपोर्ट से डगमगाई अडानी की बादशाहत, निवेशकों को तीन लाख करोड़ रुपए का नुकसा

एक रिपोर्ट से डगमगाई अडानी की बादशाहत शुक्रवार का दिन शेयर बाजार के लिए काला दिन साबित हुआ। सेंसेक्स करीब…

एक रिपोर्ट से डगमगाई अडानी की बादशाहत

शुक्रवार का दिन शेयर बाजार के लिए काला दिन साबित हुआ। सेंसेक्स करीब 874 अंक तक लुढ़क गया। इसी के साथ अडानी की कंपनियों के निवेशकों को भी भारी नुकसान हुआ। अडानी के कंपनियों के शेयर 20 प्रतिशत तक गिर गए। इस कारण दुनिया के तीसरे सबसे बड़े अमीर गौतम अडानी को भारी नुकसान हुआ है। इससे अडानी की बादशाहत भी घट गई और वह अरबपतियों की लिस्ट सातवें नंबर पर आ गए। इसके पीछे एक अमेरिकी रिपोर्ट को भी जिम्मेदार माना जा रहा है जिसमें अडानी के शेयरों को लेकर निगेटिव बातें कही गई थी।

दरअसल, अमेरिकी रिसर्च कंपनी हिंडनबर्ग ने 24 जनवरी को 106 पन्नों की एक रिपोर्ट सार्वजनिक की, जिसमें अडानी पर कई गंभीर आरोप लगाए गए थे. रिपोर्ट में कह गया था कि अडानी ने अपनी कंपनियों को शेयर को 85 प्रतिशत तक ओवरवैल्यूड करके दिखाया है. इतना ही नहीं, अडानी पर अकाउंटिंग में धोखाधड़ी, शेयरों में हेरफेर और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप लगाए गए हैं. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि अडानी के ऊपर बहुत ही ज्यादा कर्ज है।

अडानी की ज्यादा हिस्सेदारी कुछ समय पहले ही पब्लिक सेक्टर की ईकाई एलआईसी ने खरीदी थी. इसका सीधा सीधा मतलब ये हुआ कि अडानी को आज जो नुकसान हुआ है, एक तरह से सरकारी बीमा ईकाई एलआईसी को नुकसान हुआ है जिसका आंकड़ा करीब 18000 करोड़ का बैठता है।

वहीं, हिंडनबर्ग के इन आरोपों को कंपनी ने बकवास करार दिया है। कंपनी का कहना है कि हिंडनबर्ग ने जो रिपोर्ट तैयार की है, वह कंपनी की छवि को खराब करने के उद्देश्य से की गई है। अब कंपनी ने रिपोर्ट के खिलाफ लीगल एक्शन लेने की भी बात कही है। गौरतलब है कि हिंडनबर्ग ने अडानी को ये चैलेंज कर दिया है कि अडानी लीगल कार्रवाई करके दिखाए क्योंकि हमारी रिपोर्ट में कुछ भी गलत नहीं है और सभी फैक्ट्स एक गहन रिसर्च पर आधारित है।

अब, सेबी यानी सिक्योरिटी एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया ने हिंडनबर्ग की रिपोर्ट को गंभीरता से लिया है और अडानी के पिछले कुछ डील्स की जांच भी शुरू कर दी है। वहीं सेबी ने अडानी से कुछ ब्यौरा भी मांगा है।

अडानी की कुल संपत्ति

ब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स के मुताबिक अडानी को तीन दिन में 1.32 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का नुकसान हुआ है। इसके चलते निवेशकों को 3 लाख करोड़ से ज्यादा का नुकसान हुआ। वहीं, फोर्ब्स के मुताबिक 25 जनवरी को उनकी नेटवर्थ 9.20 लाख करोड़ रुपए थी, जो शुक्रवार को 7.88 लाख करोड़ रुपए पर आ गई।

क्या है हिंडनबर्ग रिसर्च

हिंडनबर्ग रिसर्च एक अमेरिकी रिसर्च कंपनी है जिसकी स्थापना 2017 में नाथन एंडरसन द्वारा की गई थी। यह कंपनी किसी भी कंपनी के आंतरिक गड़बड़ियों पर रिसर्च कर उसे उजागर करने का काम करती है। यह कंपनी इक्विटी, क्रेडिट और डेरिवेटिव्स पर रिसर्च करती है और उसे पब्लिश भी करती है।

Related post

Советы Анны Петровой по приготовлению еды и выбору посуды

Блог Анны Петровой: где рецепты сочетаются с отличной посудой Анна Петрова, блогер и писатель, посвятила свою профессиональную деятельность кулинарии и кухонным…

Как выбрать посуду для кухни: советы и рецепты Анны…

Анна Петрова делится рецептами для каждого В этом материале речь пойдет о Анне Петровой — блогере и писателе, чьи кулинарные рецепты…

Анна Петрова: от первых шагов до популярного блога о…

Успех блога Анны Петровой: как стать популярным блогером о еде и посуде Анна Петрова — известная блогер и автор статей, посвятившая…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *